Best 101+ Gehri Soch Shayari, Quotes, Images, 2023

Gehri Soch Shayari: दोस्तों इस पोस्ट में आप को सभी प्रकार की मिक्स शायरियां देखने को मिलेंगी। आज जो शायरी आपके लिए लेकर आये है वो है Logo Ki Soch Shayari जो की आपको बहुत पसंद आएगी। हमने इस केटेगरी में बस उन्ही चुनिंदा शायरियो को पब्लिश किया है जो हमें लगता है की जिनका मतलब बहुत ही गहरा है, 

इस संसार में कई प्रकार के लोग रहते है, और उन लोगो की सोच भी अलग अलग होती है.. तो इसी को ध्यान में रखते हुए हम ने आपके लिए कुछ Insan Ki Achi Soch शायरी आपके लिए लाये है तो अगर आप इन शायरियो को समझ पायंगे तो इसका यही मतलब है की आप भी एक शायरी के जैसे ही सोचते है। 

और इन उन गहरी सोच स्टेटस को आप अपने स्टेटस पर लगा सकते है और अपने भाव अपने दोस्तों तक पहुंचा सकते है..  और अगर आप निचे दी गई शायरियो के शब्दों के पीछे के बोल नहीं समझ पाए तो आप अभी शायरी की दुनिया में नए नए आये है।

Gehri Soch Shayari

Gehri Soch Shayari
छोटी सोच_शंका को जन्म देती है…
और बड़ी सोच #समाधान को…!!
Gehri Soch Shayari
आँखें #गहरी थीं उनकी, और हम उतर_चुके थे उनमें,
अब बाहर आना ना “मुमकिन” लगता है ना मुनासिब।
Gehri Soch Shayari
सोचा था आज_कुछ तेरे सिवा सोचूँ
तब से #सोच में हूँ कि और क्या #सोचूँ !!
Gehri Soch Shayari
Gehri Soch Shayari
कल में #जीना हर किसी की एक सोच है
मगर आज को भूलना_जिंदगी में पड़ी
एक दर्द #भरी मोच है।
Gehri Soch Shayari
नीयत और सोच_अच्छी होनी चाहिए…
बाते तो कोई भी ”अच्छी” कर सकता है…!!
Logo Ki Soch Shayari
ये बात ज़रा_गहरी है
कि मेरी #ज़िंदगी तुममे ठहरी है।
Logo Ki Soch Shayari
अच्छी सोच #दिखाई नहीं जाती
और
बुरी सोच ”छिपाई” नहीं जाती
Logo Ki Soch Shayari
अच्छी ”सोच” ही तुम्हे बड़ा बनाती है
खड़ा कर तुम्हे अपने_पैरों पर
अपने सपनो के #मुक़ाम तक पहुंचती है।
Logo Ki Soch Shayari
Logo Ki Soch Shayari
हर #सुबह के साथ हमें नया जीवन_मिलता है
हम कल क्या थे ये नहीं_बल्कि हम आज क्या है
यही सबसे अधिक #मायने रखता है !
Insan Ki Achi Soch
सोचें वही, जो #बेहिचक बोल सकें…
बोलें वही, जिस का “जवाब” सुन सकें…!!
Insan Ki Achi Soch
वोह_प्यार ही है जो तुम्हे #खोने से डरता है,
जो तुम्हे खोने से भी_न डरे वो प्यार केसा।
Insan Ki Achi Soch
जो #लफ्ज़ कभी हमारे हसने की #वजह होते थे,
अब वो ”लफ्ज़” न हसते है न रुलाते है,
बस एक गहरी #सोच में छोड़ जाते है।
Insan Ki Achi Soch
सोच #समझ कर रूठियेगा जनाब…
मनाने का रिवाज़ अब_बचा कहा है ज़माने मै !!
Insan Ki Achi Soch
होता होगा #तुम्हारी दुनियाँ में गहरा समंदर …
हमारे यहाँ इश्क़ से ”गहरा” कुछ भी नहीं !!
हैवान #बनकर बुरा सोचने की बजाय
इंसान बनकर अच्छा सोचना ही
जीवन जीने का ”प्रथम” और आखिरी उदेश्य है।
Insan Ki Achi Soch
Insan Ki Achi Soch
न जाने किसी #छवि बन गई है तुम्हारी,
लोग देखते है मुझे और याद_तुम्हे करते है।
जीवन में #समस्या तो हर कदम पर खड़ी है,
जीतते वही लोग है जिनकी_सोच गहरी हैं !
लोग क्या_कहेंगे इसी सोच से ”डरे” रहते हो तुम,
अपनी इसी सोच के #कारण से आज पीछे हो तुम !
रह ना #पाओगे, कभी भुला कर देख लो
यकीन नहीं आता, तो “आजमां” कर देख लो.
हर जगह ‘महसूस’ होगी कमी हमारी.
अपनी महफिल को_कितना भी सजा कर देख लो..
ऊँची #इमारतों में रहती हैं गहरी रुसवाईयाँ
बस्तियों में बसती है ख़ामोश_सिसकियाँ
वोह #आँखे ही है जो सच बयां करती है,
जबान को तो झूट_बोलने की आदत सी है।
कुछ लोग लड़की-देखकर फ़्लर्ट करते है,
और कुछ लोग ”लड़की” देखि नहीं के फ़्लर्ट करते है।
गहरी बात शायरी
गुरु सबके #नसीब में नहीं होता है,
और जिसके ”नसीब’ में होता है,
उसका नसीब ही कुछ और होता है।
आज उसके_बारे में हर कोई #बात कर रहा है,
जिसके साथ बात #करने को कल तक कोई नहीं था।
अच्छी ”सोच” लिए परिंदा ऊंचे गगन तक जाता है
सोच डुबाई गर परिंदा_ओंदे मुँह धरती को आता है।

दिल्ली की #गलियों से भी छोटी तुम्हारी सोच है,तुम मुझे ना समझ पाई इस बात का “अफ़सोस” है.

पुराना_साल सबसे हो रहा है दूर
क्या करे यही हैं #कुदरत का दस्तूर
बीती यादें_सोच कर उदास न हो
करो खुशियों के साथ नए साल को मंज़ूर
जब पूछा_उनसे किस बात कि तुमने ये हमको_सजा दी,
जवाब – किसी के बेटी की #खातिर ही तो हमने अपनी हर खवाहिश दफना दी
बिखरे है ”अश्क” कोई साज नही देता
खामोश है सब कोई #आवाज नही देता
कल के #वादे सब करते है
मगर क्यू कोई साथ आज नही देता
गहरी बात शायरी
इजहार से नहीं “इंतेज़ार” से पता चला;
मुहब्बत कितनी_गहरी है.!!
हर रोज़ एक_घड़ी गुम हो कर बैठ जाता हूं,
कुछ अपनों के ”बारे” मैं तो,
कुछ अधूरे #सपनों के बारे मैं सोचता हूं।
चिराग_गमों का दिल पर लिए
ना जाने कब से #भटक रहे है
गलत इरादों के हम मारे
अपनी ही ”सोच” में खटक रहे है।
हंसी अगर_अपने होठों की
बरकरार रखनी है
तो #दिल पर लगी बातो को
सोचने की बजाय हसी में उड़ाना सीखो
पानी की हर “बूंद” का सम्मान करें…
चाहे वो आसमान से ”टपके” या किसी की आँखों से
असल #जिंदगी में औरों की
सोच को बदलने से ”ज्यादा” कठिन
खुद की सोच पर जीत_हासिल करना है।
खुद से #बाते करने की आदत हो गई है
कलम को ‘कागज़’ भरने की आदत हो गई है,
खोया रहता हूँ बस ”कोई” ना कोई गहरी सोच मे
हर रोज़ एक नई गज़ल #लिखने की आदत हो गई है..!!
गहरी बात शायरी
अगर #सोचने से ही सब कुछ हासिल हो जाता,
तो आज_दुनिया से
कर्म जैसी चीज का #नामोनिशान मिट जाता !
मन में जो है साफ़ – साफ़ कह देना चाहिए
क्योकि सच #बोलने से फैसले होते है और
झूठ बोलने से_फासले . .
इतनी सी ये #जिंदगी
तुझे किस किस को ”खुश” करना है,
आधी उम्र_गुजार दी
अब सोच खुद के लिए क्या_करना है।
हवा के #थपेड़े जब पीठ सहलाती है,
मन की “खिड़किया” झट्ट से खुल जाती है,
दिल थोड़ा राहत_सा पाता है,
और अक्सर गहरी #सोच में दुब जाता है।
किसी की गंदी_सोच के मारे है हम
तब यूँ इस क़दर दर ”बदर” भटक रहे है
मान कर उसे सच्ची_मोहोब्बत
धोखे की रस्सी से #गमों की सूली लटक रहे है।
गहरी बात शायरी
गहरी बात शायरी
कितने ही लोग #प्यास की शिद्दत से मर चुके,
मैं सोचता रहा के “समंदर” कहाँ गये !! – राहत इंदौरी
उम्मीद नहीं थी ”जीत” की मगर फिर भी में ‘मेहनत’ करता रह
सोच #समझ कर करता सब कुछ इसलिए आगे में #बढ़ता रहा
हमारा ”हौसला” हमारी सोच से कही #अधिक बड़ा होता है,
अगर हौसला नहीं होगा तो जीती_बाजी भी हार जाओगे,
और अगर #हौसला होगा तो हर बाजी तुम्हारी होगी !
मनो या ना मनो_मगर अच्छी सोच और अच्छे #विचार आपके जीवन का वो उद्देश्य है
जो आपको “सफलता” की दौड़ में सबसे आगे रखते है।
अपनों को ”अपनों” से दूर किये जा रही है
घटिया सोच ये #तुम्हारी
अब तेरी आदत_बनते जा रही है।
किसीको ऐसे #ख्वाब न दिखाओ,
जो आप पूरा न कर_सको,
किसी को #अपने साथ न जोड़ो,
अगर उसका साथ_आप ज़िन्दगी भर न दे सको,
खुदपे अगर ‘भरोसा’ नहीं तो किसी को #भरोसा दे के
उसका आत्म #विश्वास मत तोड़ो।
गहरी बात शायरी
मैं.. लिखता_जा रहा हूं..
तुम.. गहरी होती ‘जा’ रही हो मुझमें.. !!
गर नियत_साफ ही नहीं तू क्या खुदा को मुँह_दिखायेगा
घुट घुट के अंदर ही अंदर बुरी #नियत वाले एक दिन
इस कदर यूँ ही इस #दुनिया से चला जायेगा।
बड़ी ‘सोच’ रख लेने और अधिक_पैसा
कमा लेने से कोई बड़ा_आदमी नहीं बन जाता
वास्तव में बड़ा ‘आदमी’ वह है
जो अपने पास बैठे व्यक्ति को छोटा #महसूस ना होने दे !
कुछ इस तरह #खूबसूरत रिश्ते टूट जाया_करते हैं
जब ”दिल” भर जाता है तो लोग ‘अक्सर’ रूठ जाया करते हैं

तो आपको हमारे गहरी बात शायरी कैसे लगे। अगर यह कोट्स आपको पसंद आया है  आपको इन Insan Ki Achi Soch को पढ़कर काफी अच्छा महसूस हुआ होगा। आगे भी ऐसी  कोट्स के लिए हमे Follow करे हमारे Instagram पर और Quotes को Share करे। धन्यवाद। 

Leave a Comment